1 of 2

मुंबई। लड़कियों के पहनावे को लेकर समाज में दो तरह की धारणा रही है। एक रूढ़ीवादी और दूसरा आधुनिक। रूढ़ीवादी लोग लडकियों के पैंट, जींस और छोटे कपडें पहनने के खिलाफ रहे है। वहीं दूसरी ओर आधुनिक विचारधारा के लोगों की नजर में लडक़ा और लडक़ी एक समान है। लडकियों के कपडों को लेकर एक बार फिर यह मामला सुर्खियों में छाया हुआ है। मुंबई के गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक कॉलेज की प्रिंसिपल स्वाति देशपांडे ने लड़कियों को एक सख्त चेतावनी दी है। देशपांडे के अनुसार लड़कियां अगर सलवार-कमीज पहनें तो उनके हॉर्मोन ठीक रहेंगे।

उन्होंने कहा है कि मैंने सुना है कि लड़कियों में कम उम्र में ही PCODs (पॉली सिस्टिक ओवेरियन डिजीज) का कारण उनका पहनावा है। जब वे पुरुषों की तरह कपड़े पहनती हैं तो वे उन्हीं की तरह सोचने और व्यवहार करने लगती हैं। इस तरह उनके दिमाग में भी एक तरह का जेंडर रोल रिवर्सल हो जाता है। इस कारण उनमें कम उम्र से ही रिप्रॉडक्शन की प्राकृतिक इच्छा कम होने लगती है। इसका परिणाम PCODs जैसी बीमारियों के रूप में सामने आता है।

ये भी पढ़ें – अपने राज्य – शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Web Title-dressing like men causes hormonal imbalances in women mumbai college principal
खास खबर Hindi News के अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करे!
(News in Hindi खास खबर पर)

Powered by funtoosblog.com