इमेज कॉपीरइटBBC World Service

स्मार्टफ़ोन पर रहने वाला डेटा किसी के लिए भी बेशकीमती होता है. फेसबुक पर सभी की पर्सनल जानकारी, बैंक और खरीदारी के बारे में एसएमएस और न जाने कितनी तरह की और जानकारी मैसेज में छुपी होते हैं. इसीलिए सभी स्मार्टफ़ोन पर डेटा को एन्क्रिप्ट किया जा सकता है.

किसी भी हैकर के लिए आपके बारे में जानकारी इकठ्ठा करना पहला कदम होता है. इसमें आपका नाम, जन्म की तारीख, ईमेल, दोस्त और सहकर्मियों के बारे में जानकारी होती है. ये कभी कभी बड़े आसानी से मिल जाती है.

इतनी जानकारी के बाद किसी का एक फेक प्रोफाइल बनाना बहुत आसान है. इसीलिए स्मार्टफ़ोन पर डेटा को एन्क्रिप्ट करना किसी से जानकारी छुपाने की बात नहीं है. लेकिन ये सुरक्षा और उससे जुड़ी आदत की बात है.

 

अब ये बात कई बार साबित हो चुकी है कि फैक्ट्री रिसेट करने के बाद भी डेटा को किसी भी स्टोरेज डिवाइस से निकाला जा सकता है. अगर किसी को आपके बारे में जानकारी इकठ्ठा करनी है तो ऐसे डिवाइस से भी उसे ये जानकारी मिल सकती है. लेकिन एन्क्रिप्ट किए हुए स्मार्टफ़ोन से ये जानकारी निकालने के लिए उसे पासवर्ड चाहिए और ये करना बहुत मुश्किल है.

 

अपने फ़ोटो को सुरक्षित रख कर अपने आप को ही नहीं पर आपके दोस्तों को भी ऐसे हैकर की नज़रों से आप सुरक्षित रख सकते हैं. फोटो अगर एन्क्रिप्ट नहीं किए हुए हों तो हैकरों के हाथ लग कर ये बेशकीमती होते हैं. तरह-तरह के ऐप इस्तेमाल करके आप फ़ोटो तो शेयर कर सकते हैं. लेकिन उन्हें स्मार्टफ़ोन, टैबलेट जैसे डिवाइस पर सुरक्षित रखने के लिए एन्क्रिप्शन सबसे आसान तरीक़ा है.

कुछ ऐसे ऐप भी डाउनलोड किए जा सकते हैं, जो फोटो एक्सेस करने के पहले एक पिन मांगे हैं. किसी भी ग़लत हाथ में अगर आपका स्मार्टफ़ोन पड़ जाए तो सुरक्षा के लिहाज़ से ये आपके और आपके परिवार के लिए बहुत बढ़िया हो सकता है.

Powered by funtoosblog.com